किसी की आत्मघाती लुका-छुपी के विपरीत मनीष टिबड़ेवाल की बहादुरी बनी मिसाल!

किसी की आत्मघाती लुका-छुपी के विपरीत मनीष टिबड़ेवाल की बहादुरी बनी मिसाल!

3 May 2020 Off By hanijhanjhari

हनी झांझरी। कोरोना वाइरस से संक्रमित होना उतना खतरनाक नहीं भी हो सकता है जितना की इसकी जांच से भागना व जांच में इसकी पुष्टि होने पर इसे छुपाकर रखना। तब्लीगी जमात के लाेगाें के काेराेना की जांच काे लेकर दिखाये जा रहे नकारात्मक रवैये के बीच गाैहाटी के व्यवसायी का जज्बा साेशल मीडिया पर छाया हुआ है।

फाईल फाेटाे

आपकाे बता दें कि असम में काेराेना के संक्रमण की पुष्टि का आंकड़ा 26 के पार पंहुच चुका है।

সতৰ্কবাণী —- অসমত পুণৰ কাছাৰৰ এগৰাকী লোকৰ দেহত কোভিড১৯ ত আক্ৰান্ত হোৱা বুলি ধৰা পৰিছে ৷ ইয়াৰ ফলত ৰাজ্যখনত আক্ৰান্তৰ…

Posted by Himanta Biswa Sarma on Saturday, April 4, 2020

नई दिल्ली के तब्लीगी मरकज में कोरोना संक्रमण को लेकर बरती गई घातक लापरवाही ने देश में इस वाइरस के संक्रण की घटनाओं को कईं गुना बढ़ा दिया। देश के बचे खुचे राज्यों को भी इसकी चपेट में ले लिया।

जब असम सरकार ने तब्लीजी जमात से लौटे लोगों को स्वेच्छापूर्वक इसकी जानकारी स्वास्थ्य विभाग को देने का आह्वान किया, तब ज्यादातर लोगों ने इस अपील को दरकिनार कर दिया।

फिर भी सरकार ने पुलिस व जनता की मदद से अधिकतर लोगों को ढूंढ निकाला। हालांकि अब भी कुछ लोग भूमिगत हैं। कई जगहों पर तो पुलिस के खदेड़ खदेड़ कर ऐसे लोगों को क्वारेंटाइन व इलाज के लिए अस्पताल पंहुचाया।

साेनारी में पुलिस के आगमन पर भागने का प्रयास करता जमाती

लेकिन इसके बिल्कुल उलट गौहाटी के युवा व्यवसायी मनीष टिबड़ेवाल की बहादुरी इन दिनों सोशल मीडिया पर छायी हुई है। जब शुक्रवार की रात उनकी रिपोर्ट पॉजीटिव आई, तब उन्होंने बेझिझक की इसकी जानकारी अपने करीबियों व आम लोगों को दी।

गुवाहाटी के मनीष टिबडेवाल

वाट्सएप स्टेटस के जरिये उनके संपर्क में आने वाले सभी लोगों से क्वारंटाइन पर रहने का अनुरोध भी किया। मनीष के इस पहल का खुद राज्य के स्वास्थ्य मंत्री डा. हिमन्त विश्व शर्मा ने प्रशंसा की है।

मनीष का वाट्सएप स्टेटस

मीडिया से बातचीत में मनीष ने अपनी नई दिल्ली यात्रा से लेकर तालाबंदी तक के दौरान सभी यात्राओं की जानकारी भी दी है। बीमारी के सामान्य लक्षण होने के बावजूद उन्होंने खुद को क्वारेंटाइन कर दिया।

मनीष का जज्बा वाकई काबिल-ए-तारीफ है व इस बीमारी को लेकर लोगों की कईं भ्रांतियों को भी दूर करता है।

यह भी देखेंः

तालाबंदी में अनूठी शादी! दुल्हन काे लेकर 90 KM की साइकिल यात्रा कर दूल्हा पंहुचा घर