सिविक एक्शन कार्यक्रम के तहत १७५वीं बटालियन केरिपुब ने रानी हाईस्कूल मे किया ३ टायलेट ब्लाक का निर्माण

सिविक एक्शन कार्यक्रम के तहत १७५वीं बटालियन केरिपुब ने रानी हाईस्कूल मे किया ३ टायलेट ब्लाक का निर्माण

3 May 2020 Off By hanijhanjhari

रिपाेर्टः हनी झांझरी। केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (केरिपुब) देश में असमाजिक तत्वों से निपटने तथा कानून व्यवस्था बनाए रखने के साथ-साथ जन सेवा कार्यो में भी अपना कर्तव्य बखूबी से निभाती आ रही है।

इसी क्रम में २७ फरवरी काे 175वीं बटालियन केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल ने कामरुप जिले के असम-मेघालय सीमावर्ती रानी हाई स्कूल में सिविक एक्शन कार्यक्रम के तहत तीन टायलेट ब्लाक का निर्माण किया।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि श्रीमती सत्यानिष्ठा शर्मा एवं श्री सुभाश चन्द शर्मा, कमाण्डेन्ट-175वीं वाहिनी केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल द्वारा श्री दीपक कुमार शर्मा प्रधानाचार्य, रानी हाई स्कूल के उपस्थिति में टायलेट ब्लाक का उद्घाटन किया गया।

इस अवसर पर 175वीं बटालियन केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल के श्री एम.एस राठौर, द्वितीय कमान अधिकारी, श्री अब्दुल रहीम, उप कमाण्डेन्ट एवं डाक्टर अनिल कुमार, वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी, अधीनस्थ अधिकारी, अन्य कार्मिक, पत्राकारों एवं स्थानीय लोग उपस्थित रहे।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि श्री सुभाश चन्द शर्मा, कमाण्डेन्ट-175वीं वाहिनी केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल ने स्कूली बच्चों के स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के लिए उत्साहित किया। इसी क्रम में डाक्टर अनिल कुमार, वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी द्वारा रानी हाई स्कूल के छात्र-छात्राओं का निःशुल्क मेडिकल जाॅंच किया गया तथा आवश्यक दवाईयाॅं दी गयी।

इस कार्यक्रम से रानी हाई स्कूल के बच्चों में काफी उत्साह देखा गया और उनके द्वारा भूरी- भूरी प्रशंसा की गयी। श्री सुभाश चन्द शर्मा, कमाण्डेन्ट-175वी वाहिनी के0रि0पु0बल ने भविष्य में भी इस तरह के कार्यक्रमों के आयोजन करने का आश्वासन दिया।

कार्यक्रम को खूबसूरत और रोमांचित बनाये रखने के लिए स्कूल के छात्र-छात्राओं द्वारा लोकनृत्य बिहू डांस, मार्डन डांस के अलावा रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किया एवं कार्यक्रम में भाग लेने वाले छात्र-छात्राओं को उपहार वितरण किये गये।

अतिथिगण एवं ग्राम वासियों ने 175वीं वाहिनी के इस कार्यक्रम की तहे दिल से प्रशंसा की।

ये भी देखेंः

श्री पार्श्वनाथ पाठशाला की धार्मिक प्रश्रोत्तरी प्रतियाेगिता संपन्न, पाठशाला की सराहना

असम व जैनधर्म का संबंध है शताब्दियाें पुराना : दिगम्बर जैन महासभाध्यक्ष निर्मल सेठी

किसी की आत्मघाती लुका-छुपी के विपरीत मनीष टिबड़ेवाल की बहादुरी बनी मिसाल!