What is Shillong Teer – शिलांग तीर क्या है? जानिये मेघालय के इस पारम्परिक खेल काे

What is Shillong Teer – शिलांग तीर क्या है? जानिये मेघालय के इस पारम्परिक खेल काे

21 February 2021 0 By NEWS DESK

Shillong Teer बन चुका है हजाराें लाेगाें की दिनचर्या

What is Shillong Teer? शिलांग तीर क्या है?

Shillong Teer – शिलांग तीर तीरंदाजी (Archery) पर निर्भर मेघालय का एक परम्परागत खेल है जाे कि लाॅटरी के रुप में राज्यभर में लाेकप्रिय है।

इस खेल में किसी काे मिलता है ‘जैकपॉट’ (Jackpot) ताे काेई खाे देता है अपने खून-पसीने की कमाई।

Shillong Teer
Shillong Teer खेल की फाईल फाेटाे

किस राज्य में ‘लाेकप्रिय’ है यह खेल?

भारत के पूर्वाेत्तर में स्थित जनजातीय बहुल राज्य है मेघालय। पर्यटन के लिये देश व दुनिया में प्रसिद्ध मेघालय इंटरनेट की दुनिया में एक परम्परागत व सरकारी ताैर पर वैध लाॅटरी के लिये खूब खाेजा (सर्च – Search) किया जाता है।

महीने के हर सोमवार से शनिवार तक दोपहर साढ़े तीन से पांच बजे के बीच मेघालय राज्य के हजाराें लाेग इस विशेष व परम्परागत लाॅटरी खेल के परिणाम (Result) के लिये दिल थामकर इंतजार करते हैं।

आश्चर्य की बात यह है कि जब दुनिया 4G व 5G की तेज रफ्तार इंटरनेट की सुविधा से लैस हाेकर डिजिटर बन रही है व आय के नये-नये जरिये पैदा हाे रहे हैं, उस समय में भी मेघालय राज्य के बहुत लोग अब भी इस पारंपरिक खेल पर निर्भर कर अमीर बनने के सपने बुन रहे हैं।

इस खेल के साथ जुड़कर एक तरफ जहां मुट्ठीभर लाेग अमीर बन रहे हैं, वहीं हजाराें लाेग अपने खून-पसीने की कमाई इस लाॅटरी पर लुटा रहे हैं।

आम लाेगाें की दिनचर्या का अभिन्न अंग

Shillong Teer मेघालय में सट्टेबाजी का एक बेहद लोकप्रिय व पारंपरिक खेल है जाे हजारों लोगाें की दिनचर्या का अभिन्न अंग बन चुका है।

इस खेल में हजाराें आदिवासी लाेग तीर-कमान लेकर दिन में दाे बार निशाना साधने के इस खेल के साक्षी बनते हैं।

लक्ष्य से टकराने वाले तीरों की संख्या के आधार पर Shillong Teer (शिलांग तीर) के परिणाम घोषित किए जाते हैं।

क्या कानूनी ताैर पर वैध है Shillong Teer?

जी हां, मेघालय में Teer (तीर) खेल पूरी तरह से सरकारी ताैर पर वैधता प्राप्त है। मेघालय सरकार इस खेल के लिये काउंटर स्थापित करने के लिये लाइसेंस (अनुज्ञापत्र) प्रदान करती है।

कहां से खरीदे जाते हैं तीर के नम्बर?

सरकार द्वार अनुमति प्राप्त काउंटराें पर काेई भी व्यक्ति अपने पसंद के नम्बर खरीद सकता है। काेई भी व्यक्ति शून्य (0) से लेकर 99 के बीच में अपनी इच्छा के अनुसार नम्बर पर बाजी लगा सकता है। यह नम्बर खरीदने के लिये राजधानी शिलांग के काेनाे-काेने में काउंटर बने हैं।

कैसे निर्धारित हाेता है ‘जैकपाॅट’ नम्बर?

तीर खेल का परिणाम तीरंदाजी के खेल के बाद निर्धारित हाेता है। निर्दिष्ट स्थान पर तीरंदार जुटते हैं। वे निर्धारित लक्ष्य पर 50 बार निशाना साधते हैं। इसके बाद निशाने पर लगने वाले तीराें काे निकालकर उनकी गिनती की जाती है।

मान लीजिये कि कुल 245 तीर निशाने पर लगते हैं। इस स्थिति में आखिरी दाे नम्बर अर्थात 45 उस लाॅटरी का परिणाम हाेता है। इस तरह दिन में दाे बार तीरंदाजी की जाती है। पहला राउंड 3.30 बजे शुरु हाेता है ताे दूसरा राउंड 4.30 बजे खेला जाता है।

आनलाईन पर भी उपलब्ध हाेता है परिणाम

समय के साथ-साथ तीर खेल का रुप-रंग भी बदल रहा है। पहले सिर्फ काउंटराें पर ही तीर खेल के परिणाम देखकर लाेग अपने नम्बर से उसका मिलान कर जीत या हार का पता कर पाते थे। लेकिन अब अपने माेबाईल पर सिर्फ संबद्ध खेल की वेबसाइट पर जाकर वे किसी भी स्थान पर परिणाम देख सकते हैं। मेघालय में चल रहे विभिन्न तीर खेलाें के परिणाम इस वेबसाइट पर उपलब्ध हाेते हैं। अब आलम यह है कि राेजाना लाखाें की तादात में लाेग गूगल पर सिर्फ तीर खेल के परिणाम खाेजने के लिये आते हैं।

क्या है लाॅटरी का पुरस्कार?

जैकपाॅट ताे सिर्फ किस्मत वालाें काे ही मिलता है। लेकिन इसके बावजूद भी लाेग अपने खून-पसीने की कमाई इस खेल के नाम पर लुट देते हैं। 3.30 बजे घाेषित हाेने वाले पहले परिणामाें में अगर किसी का नम्बर सटीक मिल जाता है ताे उसे नम्बर खरीदने पर दी गई राशि का 80 गुना भुगतान मिलता है। अर्थात अगर किसी ने 1 रुपये लगाया था व उसकी लाॅटरी लगती है ताे उसे 80 रुपये का भुगतान मिलता है।

इसी तरह 4.30 बजे हाेने वाले दूसरे राउंड में 1 रुपये के बदले 60 रुपये मिलते हैं।

इस खेल से जुड़ी जानकारी के लिये देखें यह वीडियाे-

Disclaimer

आपको दी जाने वाली इस खबर का उद्देश्य सिर्फ आपको सम्बंधित विषय के बारे में जरुरी जानकारी प्रदान करने के लिए है। हम किसी भी तरह से सट्टा या जुआ को प्रोत्साहित बिलकुल भी नहीं करते हैं।